top of page
  • Writer's pictureSu

तुम्हारी हार, तुम्हारी जीत का रास्ता है

ज़रूरी नहीं है कि हर बार प्यार से ही समझाया जाए। कभी-कभी गुस्से की जरूरत होती है, खुद को जगाने के लिए। खुद को साबित करने के लिए, अपने सपनों को हासिल करने के लिए। दुनिया हर बार तुम्हें गिराने की कोशिश करेगी, लेकिन याद रखना, तुम्हारे अंदर का गुस्सा तुम्हारी ताकत बन सकता है।


जब तुम्हें लगे कि सब कुछ खत्म हो गया है, तब अपने अंदर के उस गुस्से को जगा लो जो तुम्हें फिर से खड़ा कर सके। तुम कमजोर नहीं हो, तुम हारे नहीं हो। तुम्हारे अंदर वो आग है जो पूरी दुनिया को बदल सकती है। उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक मंजिल हासिल ना हो जाए।


तुम्हारी हार, तुम्हारी जीत का रास्ता है। हर ठोकर, हर असफलता तुम्हें और मजबूत बना रही है। अपने अंदर के उस गुस्से को पहचानो, उसे अपनी ताकत बनाओ और दुनिया को दिखा दो कि तुम क्या कर सकते हो।


tumhaaree haar, tumhaaree jeet ka raasta hai

5 views0 comments

Comentários

Avaliado com 0 de 5 estrelas.
Ainda sem avaliações

Adicione uma avaliação
bottom of page