top of page

80,90 की मीठी यादें( बचपन Again)

Public·2 members

हमारे 80,90 के दौर में भारत देश के सभी राज्यों के हर विद्यार्थी की हिंदी की पुस्तक में मुंशी प्रेमचंद की कहानी ""पंच परमेश्वर "" ज़रूर होती थी।

दो मित्रों अलगू चौधरी और जुम्मन शेख की ये कहानी, मित्रता , इंसाफ, ईमानदारी की भावनात्मक पहलुओं को दर्शाती है, और ये बताती है कि निर्णायक बनने के बाद कोई भी रिश्ता दिखाई नहीं देता। मुंशी प्रेमचंद की कहानियां हमारे समाज को हमेशा ही एक संदेश देती थी।

हिन्दी की पुस्तक में आप सबको मुंशी प्रेमचंद की कौन सी कहानी पसन्द है, ज़रूर बताएं |




#Munshi_Premchand's story "Panch Parmeshwar" was definitely there in the Hindi book of every student of all the states of India during our 80, 90's era.

This story of two friends, Algu Choudhary and Jumman Shaikh, depicts the emotional aspects of friendship, justice, honesty, and shows that no relationship is visible after being judged. The stories of Munshi Premchand always gave a message to our society.

Which story of Munshi Premchand do you all like in Hindi book, definitely tell.


Credit - Anil Raghubar Sharma

About

Welcome to the group! You can connect with other members, ge...
bottom of page